स्ट्रेच मार्क्स का ईलाज | How To Get Rid of Stretch Marks (In HINDI)

आज हम बात करेंगे स्टेच मार्क्स के बारे में,  कि स्ट्रेच मार्क्स कैसे और क्यों बनते है, स्ट्रेच मार्क्स से बचाव कैसे करें और यदि यह हो ही गये है तो स्ट्रेच मार्क्स का इलाज (How To Get Rid of Stretch Marks In HINDI) कैसे करें। यदि इस जानकारी को जानना चाहते है तो आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें।

स्ट्रेच मार्क्स क्या होते है और कैसे बनते है।

मार्क्स हमारी स्किन पर लंबी-लंबी लाइन जैसे दिखाई देते हैं। इन लाइंस के ऊपर किसके पतली और ढीली हो जाती है, और इनका रंग हमारी स्किन के कलर से कहीं हल्का होता है, कहीं गहरा होता है, या लाल रंग का होता है। स्ट्रेच मार्क्स ज्यादा करके जांघों पर, पेट पर, और कंधों पर हो जाते हैं। यह अक्सर प्रेगनेंसी में वजन बढ़ने से हो जाते हैं, या जब Teenage में बच्चे तेजी से बढ़ते हैं, तब हो जाते हैं। किसी किसी लोगों में फैमिली हिस्ट्री भी होती है, और थोड़ा सा वेट बढ़ने से या घटने से ही उनके स्ट्रेच मार्क्स बन जाते हैं।

बहुत दिनों तक स्टेरॉइड क्रीम (Steroid Creams) और लोशन(Lotion) लगाने से और स्टिरॉयड टेबलेट(Steroid Tablet) खाने से भी स्किन पतली हो जाती है, और उसमें स्ट्रेच मार्क्स (Stretch Marks) बन जाते हैं। हाइड्राक्वीनोंन(Hydroquinone) एक और केमिकल(Chemical) है, जिसको लोग फेयरनेस क्रीम(Fairness Creams) में बहुत यूज करते हैं, उसको बहुत दिन यूज़ करने से चेहरे पर स्ट्रेच मार्क्स बन जाते हैं।

स्ट्रेच मार्क्स बनने का सबसे बड़ा कारण है, तेजी से वजन घटना या तेजी से वजन बढ़ना,  जैसे 2 महीने में किसी की शादी है और फिर वह क्रैश डायट पर चले जाते हैं कि भाई 10-15 किलो वेट कम कर लो, अब तो आपने कम कर लिया 1 महीने में लेकिन स्ट्रेच मार्क्स भी बन जाएंगे क्योंकि आपने अपनी स्किन का फैट बहुत जल्दी लूज किया है और उसको नॉरमल टीशू(Tissue) उसे रिप्लेस होने का टाइम नहीं दिया है।

कई लोग वेट बढ़ाने के लिए और बॉडी बिल्डिंग के लिए प्रोटीन और तरह-तरह के डायट सप्लीमेंट खाने लगे हैं। यह ठीक नहीं है, आजकल कई ऐसे फूड सप्लीमेंट्स मार्केट किए जा रहे हैं, जिसमें मेल हारमोंस, ग्रोथ हार्मोस और स्टेरॉइड्स(Steroids) होते हैं।  इनको खाने से पेट तेजी से बढ़ता है, इससे स्किन तेजी से खींची हुई है और स्ट्रेच मार्क्स बन जाते हैं।

इसके साथ ही साथ इन लोगों के पिंपल्स भी होने लगते हैं और बाल भी झड़ने लगते हैं और लेडीज के पीरियड भी इरेगुलर (Irregular) हो जाते हैं। इसलिए जब भी आप किसी फूड सप्लीमेंट को यूज करने की सोचो तो, उस पर लिखे सारे इनग्रेडिएंट्स यानी उसके अंदर क्या है और उनके साइड इफेक्ट क्या हो सकते हैं इसके बारे में आपको पूरी जानकारी लेना चाहिए।

स्टरेच मार्क से बचाव कैसे करें? Prevention of stretch Marks in Hindi

इसके पहले कि हम स्ट्रेच मार्क्स की ट्रीटमेंट की बात करें, मैं आपको यह बताना चाहती हूं, कि आप अपनी स्क्रीन पर स्ट्रेच मार्क्स होने से कैसे बचाव कर सकते हैं या नहीं प्रिवेंशन? जब महिलाएं प्रेग्नेंट हो तब शुरू से ही प्रतिदिन रात को पेट पर, ब्रेस्ट पर, और थाइज पर नारियल का तेल(Coconut Oil) या ऑलिव ऑयल(Olive Oil या घी(Ghee) अच्छी तरह से लगाएं, या फिर आप कोई अच्छा मॉइश्चराइजिंग लोशन(Moisturising Lotion) भी रोज रात को लगाकर सोए। इससे स्किन सॉफ्ट रहेगी और डिलीवरी के बाद वजन अचानक कम होने से स्ट्रेच मार्क्स नहीं बनेंगे,

इसी तरह जवाब वेट बढ़ने या घटाने का प्रयत्न कर रहे हैं, तो पूरे बॉडी की स्किन को नारियल का तेल या मॉइश्चराइजर लगाकर सॉफ्ट रखें।

स्टरेच मार्क का ईलाज – Treatment of stretch Marks in Hindi

पहला तरीका- यदि स्ट्रेच मार्क्स बन ही गए हैं, तो सबसे पहले आपको स्ट्रेच मार्क्स पर साबुन कम से कम लगाना चाहिए, साबुन लगाने से स्ट्रेच मार्क्स जाएंगे नहीं बल्कि आपकी स्किन सूख जाएगी और स्ट्रेच मार्क्स और बढ़ जाएंगे। शरीर पर हमेशा माइल्ड सोप जैसे पीयर्स सोप(Pears Shop) का इस्तेमाल करना चाहिए।

स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करने के लिए आपको उन पर रात को सोते समय हल्के हाथ से रेटिनोइक एसिड (Ratinoic Acid) युक्त क्रीम, जैसे रेटिनो-ए क्रीम (Retino-A Cream) लगाना चाहिए, और सुबह उसको गुनगुने पानी से धो कर, उसके ऊपर फिर अच्छी तरह नारियल का तेल या मॉइश्चराइजर लगायें। रेटिनो तेल स्किन की ऊपरी सतह को साफ करता है, और साथ ही साथ स्किन के अंदर जाकर कॉलेजन(Collagen) या कनेक्टिव टिशु (Connective tissue) जो स्टरेच होकर टूट गए हैं, उनको भी रिपेयर करता है। इसलिए रेटिनो-ए एसिड या रेटिनो ए-क्रीम स्ट्रेच मार्क्स के ट्रीटमेंट में इस्तेमाल किए जाते हैं।

एक बात का ध्यान रहे कि रेटिनो-ए एक स्टॉंग दवाई है, इसको हमेशा कम स्टेंथ से शुरू करना चाहिए और इसको लगाने से कोई भी रेडनेस या जलन हो तो इसे नहीं लगाना चाहिए।

दूसरा तरीका– यह है कि आप फ्रेश एलोवेरा को क्रश करें, अच्छी तरह पीस लें, और उसमें एक चम्मच नारियल का तेल मिक्स करें, और इस मिक्सचर को स्ट्रेच मार्क्स पर सुबह-शाम लगाएं।

तीसरा तरीका– स्ट्रेच मार्क्स को सुबह शाम 10:00 मिनट तक कैस्टर ऑयल से मसाज करें, कैस्टर ऑयल थोड़ा चिपचिपा होता है, लेकिन यह स्किन को बहुत सॉफ्ट कर देता है, और स्टरेच मार्क्स रिडक्शन के लिए बहुत ही अच्छा है।

यह सब तरीके जो अभी मैंने आपको बताए हैं, वह आपको कम से कम 3 से 6 महीने तक जरूर करना होगा। यह सब करने के साथ यदि आप डेली खाने के साथ एक कैप्सूल विटामिन-ए की 1 महीने तक लोगे तो फायदा जल्दी होगा।

अगर स्ट्रेच मार्क्स बहुत ज्यादा है और बहुत कमजोर है, तो आप अपने स्टेट मार्क्स की लेजर रिसर्फेसिंग या डर्म एबरोशन भी करवा सकते हैं।

दोस्तों आशा है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। स्ट्रेच मार्क्स के बारे में आपका कोई भी सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर लिखना मैं आपको अच्छे से अच्छा जवाब देने की कोशिश करूंगी थैंक यू।

Disclaimer- इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी सिर्फ लोगों को अवगत कराने के लिए है। इसे मेडिकल सलाह के रूप में ना लिया जाये। इस जानकारी को अपने आप अपना इलाज करने के काम ना लें। आपको अपनी हर बीमारी की सलाह और इलाज अपने रजिस्टर्ड मेडिकल डॉक्टर से लेना चाहिए।

Leave a Comment