जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते हैं- How to Twins Baby Born in Hindi

जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते हैं- How to Twins Baby Born in Hindi

जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते हैं ( How to Twins Baby Born )आज का मेरा टापिक यही है. आज हम बात करने वाले हैं कि आखिर जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते हैं ( How Twins Baby born) यह एक बहुत ही Interesting Topic है जिसे हर कोई जानना और समझना चाहता है, यदि आप Science के Student है तो हो सकता है कि आपको पता हो कि जुड़वा बच्चे कैसे होते हैं लेकिन ज्यादातर लोगों को जुड़वा बच्चों के process के बारे में पता नहीं होता है यहां तक कि मुझे खुद भी पता नहीं था कि जुड़वा बच्चे कैसे होते हैं, लेकिन काफी Reaserch व Expert से बात करने के बाद जो जानकारी हासिल की है उसके आधार पर हम आपको बता रहे है कि जुड़वा बच्चे कैसे पैदा होते है?

मैने इस ब्लाग पर एक और पोस्ट लिखी है कि जिसमें मेरे द्वारा बताया गया है कि Womans प्रग्नेंट कैसे होती हैं आप विस्तृत जानकारी के लिए उसे पढ़ सकते हैं लेकिन फिर भी हम आपको थोड़ा बता दें कि यदि आप माँ बनना चाहती है तो इसके लि सबसे अच्छा समय होता है Period Date के 14 दिन पहले आपके गर्भाशय में एक अण्डा बनता है यदि उस समय आप अपने Partner के साथ Intiment होती है तब आपके पार्टनर का Sperm जाकर अण्डे से टकराता है और जिससे एक Zygote बन जाता है, और जब अण्डा Zygote बन जाता है तो आप Pragnent हो जाती है।

आखिर अण्डा कब बनता है? अब आपके मन में यह सवाल जरूर उठ रहा होगा कि आखिर अण्डा कब बनता है तो आपको बता दें कि हर महीने Period Date के 14 दिन पहले Woman में एक अण्डा तैयार होता है और वह Ovary से निकलकर fallopian Tube में आ जाता है ऐसा महीने में एक बार ही होता है। आपको बता दें कि महिलाओं में दो Ovary होत है जिसमें से वारी-वारी हर महीने एक अण्डा निकलता है तो इस प्रकार अण्डा बनता है।

जुड़वा बच्चों के प्रकार – Kinds of Twins Baby in Hindi

जहां तक जुड़वा बच्चों के प्रकार की बात की  जाये तो आपको बता दें कि जुड़वा बच्चे तीन प्रकार के होते हैं  जिसमें पहले जुड़वा बच्चे को Identical Twinsकहते हैं यह सकल, हाव-भाव और nature आदि सभी में एक जैसे होते हैं। यह बच्चे या तो दोनो Male होंगे या फिर दोनो Female होगे।

वहीं जो दूसरे तरीके के twins होते है उनकी सकल भी अलग-अलग होती है और हाव-भाव व Nature भी अलग-अलग होता है और यह लड़का- लड़की भई हो सकते हैं। इनमें समानता केवल इतनी होती है कि यह दोनों twins होते है।

अब बात करते है तीसरे प्रकार के Twins की तो यह बच्चे पैदा तो एक साथ होते है लेकिन उनमें अभिन्न अंग होते हैं कहने का तात्पर्य यह है कि उनके Body का कुछ हिस्सा एक दूसरे की Body के साथ जुड़ा रहता है जैसे सिर, हाथ –पैर व शरीर के अलग-अलग पार्ट्स आदि।

आइये जानते है कि आखिर यह जुड़वा बच्चे किस प्रकार बनते हैं

1-समान दिखने वाले जुड़वा बच्चे-

अब जानते है कि जो समान दिखते है वह Twins कैसे पैदा होते है तो आपको बता दें कि  कभी-कभी ऐसा होता है कि अण्डा एक रहता है Sperm भी एक रहता है और जब यह मिलते है तो अण्डा दो Part में Devide हो जाता है। यहां समझने वाली बात यह है कि Sperm एक है लेकिन अण्डा दो भागों में बट गया तो उसे पैदा होने वाले बच्चे Nature में सकल में, हाव-भाव में एक जैसे होते हैं क्योंकि वह एक ही थैली में बनते हैं। ऐसा बहुत rare cases में होता है।

2- अलग-अलग दिखने वाले जुड़वा बच्चे-

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि महीने में एक ही अण्डा बनता है लेकिन rare cases में ऐसा भी होता है कि महीने में दो अण्डे बन जाते है, दोनों अण्डे, दोनो Ovary से एक-एक रिलीज हो जाते है और तब आप अपने partner के साथ Intiment होते है तब दो अलग-अलग Sperm, अलग-अलग अण्डो से जाकर टकरा जाते हैं जिससे Zygote बन जाता है। यह बच्चे अलग-अलग गर्भाशय की थैली में पनपते हैं । ऐसा 400-500 महिलाओं में से किसी एक के साथ होता है।

3- अभिन्न अंग वाले जुड़वा बच्चे-

आपने News आदि में देखा होगा कि किसी-किसी बच्चे के पैर हाथ, सिर या शरीर आदि आपस में जुड़े होते हैं ऐसे twins तब पैदा होते हैं जब एक अण्डा रिलीज होता है और एक Sperm जाकर उस अण्डे से टकराता है और उस Sperm के दो टुकड़े (दो भाग) हो जाते हैं तो वह जड़वा तो होते हैं लेकिन उनके शरीर का कोई न कोई भाग आपस में जड़ा रहता है ऐसा बहुत ही Rare Cases में होता है।

तो मुझे लगता है कि अब आपको समझ आ गया होगा कि किस प्रकार twins बच्चे पैदा होते है इसमें किसी पुरूष या किसी महिला का कोई दोष नहीं होता है। यह कुदरती और बहुत कम होता है तो इस प्रकार तीन प्रकार के जुड़वा बच्चे पैदा होते है। यदि आप किसी से जानना चाहती है कि हम जुड़वा बच्चे कैसे पैदा करें ( How To Get Twins Baby in hindi ) तो इसे पूछना बन्द कर दें।

जुड़वा बच्चे पैदा होने के लक्षण-

जब किसी महिला की कोख में जुड़वा बच्चे पल रहे होते है तो उनमें कई प्रकार के लक्षण और संकेत दिखाई देने लगते हैं तो आइये समझने की कोशिश करते है उन लक्षणों के बारे में-

1-HCG का स्तर अधिक होना- महिलाओं में HCG का अधिक स्तर जुड़वा बच्चे होने का संकेत देता है हालांकि HCG हार्मोन्स गर्भावस्था से सम्बन्धित होता है जिसमें स्तर में बढ़ोतरी को पूर्ण रूप से जुड़वा बच्चे होने का लक्षण नहीं माना जा सकता है। इससे डाक्टर केवल अनुमान लगा सकते हैं।

COMMENTS (1)

  • comment-avatar

    nice information