miss england bhasha mukherjee comes back to doctor profession during corona pandemic

मिस इंग्लैंड भाशा मुखर्जी ने मॉडलिंग छोड़ डॉक्टरी में करी वापसी कोरोनावायरस से जंग हेतु

2019 में भाशा मुखर्जी को मिस इंग्लैंड का ताज पहनाया गया था। कोविद -19 मामलों के तेजी से प्रसार और चिकित्सा सहायता की आवश्यकता को देखते हुए, उन्होंने कोरोनावायरस महामारी के बीच एक जूनियर डॉक्टर के रूप में अपने करियर को फिर से शुरू करने के लिए अपने मॉडलिंग के मुकुट को एक तरफ रखने का फैसला किया है।

मिस इंग्लैंड का खिताब जीतने के बाद, मुखर्जी ने दिसंबर 2019 में मिस वर्ल्ड पेजेंट में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया था। वह बात तब है जब उन्होंने चिकित्सा में अपने करियर से ब्रेक लेने का फैसला किया था क्योंकि उन्हें कई चैरिटी संगठनो द्वारा अपने एम्बेसडर के रूप में काम करने के लिए आमंत्रित किया जा रहा था। इसके बाद, उन्होंने मानवीय सेवा कार्य करना चुना और अगस्त 2020 तक उस पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करने की योजना बनाई।

हाल ही में, वह अपने मानवीय कार्यों को विदेशों में करने के बाद यूनाइटेड किंगडम लौट आईं। वास्तव में, 24 वर्षीय मार्च में कई हफ्तों के लिए भारत में रही थी, चैरिटी संगठन के काम के लिए कोवेंट्री मर्सिया लायंस क्लब के एक एम्बेसडर के रूप में, जो स्कूली बच्चों और लड़कियों को छोड़ने में मौद्रिक रूप से मदद करता है।

लेकिन जब यूके में कोविद -19 महामारी फैल गई, तो उनके पूर्व सहयोगियों ने उन्हें सूचित किया कि अस्पताल में स्थिति किस तरह से बिगड़ रही थी, जिसमें उन्होंने काम किया था। उस समय, उन्होंने श्वसन चिकित्सा के विशेषज्ञ के रूप में अपने करियर में लौटने का निर्णय लिया।

कोरोनावायरस पॉजिटिव माँ ने जन्म दिया एक स्वस्थ बच्चे को

Miss England Bhasha Mukherjee Returns to Work as Doctor in UK Amid ...

अपने संगरोध की अवधि समाप्त होने के बाद, मिस इंग्लैंड भाशा मुख़र्जी एक जूनियर डॉक्टर के रूप में वापस आएगी ताकि लोगों को उपचार करने में मदद की जा सके।

उनका निर्णय दर्शाता है कि कोरोनोवायरस महामारी से लड़ने के लिए पूरी दुनिया में चिकित्सा समुदाय कैसे आगे बढ़ रहा है। वैसे वह चाहती तो मॉडलिंग करियर में रहते हुए भी एक एम्बेसडर बन के जागरूकता फैला के या फिर एक भरी रकम दान कर के भी अपनी ज़िम्मेदारी या फिर महज़ एक औपचारिकता को पूर्ण कर सकती थी लेकिन जिस पेशे से उन्होंने ब्रेक लिया था उसमें तुरंत वापस आकर मानव मात्र की सेवा करने के लिए फिर डॉक्टर की सफ़ेद कोट पहनना उनकी कर्मशीलता को दर्शाता है।

Leave a Comment