सोनम कपूर आहूजा बताएंगी औरत की हैसियत

एक बॉलीवुड की नामी एक्ट्रेस है जिनका नाम है श्रीमती सोनम कपूर आहूजा। अब इनके फैशन सेंस की जितनी प्रशंसा होती और एक नया फैशन सेंस ट्रेंडिंग हो जाता है इनके कारण। अब इनके बुद्धिमत्ता और ज्ञान के क्या ही कहने जिसके चलते प्रशंसा की जगह इनकी आलोचना हो जाती है। फिर भी सीधे तौर पर स्पष्ट है कि सोनम कपूर को अब खुद औरत होने पर या तो अपमानित महसूस होता या फिर यह औरत होने की गरिमा को जानती ही नहीं है। अब अपनी जहालत और सूक्ष्म ज्ञान का इन्होंने एक और घटिया उदहारण पेश कर दिया है जिसके चलते अब न जाने कितने दिनों तक इनकी ट्रोलिंग की जाएगी।

अब यह मोहतरमा सऊदी अरबिया से कनेक्ट हो चुकी है और वहां की एक फेमस हार्पर्स बाजार नामक मैगज़ीन को भारत विरोधी साक्षात्कार देती है जिसमें वह बताती है कि भारत में महिलाओं का स्थान दोयम दर्ज़े का है। प्रथम दृश्या तो कोई भी आम व्यक्ति इसे सही मान लेगा क्योंकि है जो वो इतनी बड़ी स्टार किन्तु उनके इस बयान में बहुत तगड़ा वाला झोल है।

यह हार्पर्स बाजार एक अमेरिकी मैगजीन है। यह पत्रिका का अरबी संस्करण है जिसको सोनम ने अपना इंटरव्यू दिया है। यह मैगज़ीन उत्तरी अफ्रीका और मिडिल ईस्ट में काफी प्रचलित और जहाँ पर वीमेन एम्पावरमेंट का कोई ठोस निशान आज तक देखने को नहीं मिला और खास तौर पर सऊदी अरब की बात हो जाए तो महिलाओं के लिए बास्केटबॉल टूर्नामेंट के वीडियो में भी उन्हें काले बुर्क़े में भूतों की भाँती दिखाया जाता है।

निर्भया का असली कातिल अवनींद्र पांडेय ही है !

धरती पर महिलाओं को ड्राइविंग का अधिकार देने वाला यह सबसे आखिरी मुल्क भी तेहरा तो इससे भी अंदाजा लगा ही लीजिये कि सोनम कपूर क्या भला कभी खुद सऊदी अरब में रह सकेंगी जो उनको वहां पर महिला सशक्तिकरण की बहार दिखाई देने लगी! बिलकुल नहीं….क्योंकि यह एक पेड इंटरव्यू था जहाँ विदेशी मीडिया रीच और चंद पैसो के लिए सोनम कपूर ने अपनी बदज़ुबानी का एक और उदाहरण पेश किया है।

सोनम कपूर आहूजा की बात मज़ाक थी ……..

पहले तो जान लीजिये सोनम कपूर ने कहा क्या है। हापर बाजार मैगज़ीन को दिए बयान में उन्होंने कहा – “मेरे लिए नारी सशक्तिकरण बहुत मायने रखता है क्योंकि मैं दुनिया के उस हिस्से से आती हूँ जहाँ महिलाएं दोयम दर्ज़े की नागरिक है।”

अब इस बयान को पढ़ने के बाद या तो आप अपना सिर पकड़ के बैठ जायेंगे या फिर आप गुस्से से लाल हो जायेंगे। अब कौन यह बात निश्चित कर पायेगा कि सोनम कपूर को फिर से भारतीय इतिहास पर स्कूलिंग की आवश्यकता है। इस बात को बिलकुल भी नकारा नहीं जा सकता है कि वह छंद सेकुलरिज्म और पश्चिमवाद की विषैली विचारधारा से ग्रस्त है। उन्हें न ही द्रौपदी के बारे में पता है जो पूरे समाज के सामने 5 पुरुषों संग विवाह कर लेती है, उन्हें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के बारे में नहीं पता जो महिलाओं की पूरी सेना लेकर अंग्रेज़ों की सेना ही भिड़ जाती है।

क्या उन्हें खुद के ऊपर भी शक है कि लोग उन्हें कम से कम उनके फैशन के लिए एक आइडियल मानते फिरते है ? किस तरह के दोयम दर्ज़े के नागरिक होने की बात वह कह रही है। एक समलैंगिक फिल्म करने से लेकर शादी पर फ्लॉप प्रहार करने वाले फिल्म “वीरे दी वेडिंग” करना हो ….आखिर सोनम कपूर आहूजा ने किया ही क्या है ?

इतनी आज़ादी मिली है और वह खुद को दोयम दर्ज़े का नागरिक कहती है जबकि उनके खुद के शौहर कभी उनके साथ स्पेस शेयर करते हुए दिखाई नहीं देते है फिर भी मोहतरमा खुद को आज़ाद और आत्मनिर्भर होते हुए भी दोयम दर्ज़े का समझती है और उन्हें पर्दाबंद, जाहिल और गुलाम सऊदी औरतों के अंदर महिला सशक्तिकरण का उभार दिखता है तो हम श्रीमती सोनम कपूर आहूजा से केवल यही कहेंगे कि आप कृपया एक दिन सऊदी अरब में रहकर आये और फिर ऐसा मज़ाक करने की चेष्टा करियेगा क्योंकि तब आपको भी हँसी नहीं आएगी जैसे अभी हमको नहीं आ रही है।

Leave a Comment